जीवन अतीत की यादों का पोथा नहीं…(एक काव्य)(Against Domestic violence)

नयी नहीं थी ये बात उसके लिए यूँ अचानक रातों में डर सा जाना, डर कर सहम सा जाना, सहम … More